Hindu Mahasabha President Swami Chakrapaniji canceled the list of Akhada Parishad

Hindu Mahasabha President Swami Chakrapaniji canceled the list of Akhada Parishad

49 Comments on "Hindu Mahasabha President Swami Chakrapaniji canceled the list of Akhada Parishad"


  1. निर्दोष सन्त संत रामपाल जी महाराज को न्याय मिले यही हमारी मांग है

    Reply

  2. a aakhada ko bhi Vatican church ne kharid lia ….sale a khud farzi hai….nirdosh shri…aasaram ji ko farzi case me fasaya rand soniya gandu Gandhi ne

    Reply

  3. धन्यवाद चक्रपाणी जी, संतों की आवाज उठाने के लिए

    Reply

  4. media ne frjii list to Khub Mjee lekar btati abb jraa si bhi himmat hai to shii kbar dikhao kaminooooo

    Reply

  5. 4 साल से निर्दोष हिन्दू संत आशारामजी बापूजी को बिना किसी अपराध के साबित हुए जेल में रखकर दंड दिया जा रहा है यह भारत के अंग्रेजो के द्वारा बनाये गए अंधे कानूनों के द्वारा ही अच्छे लोगो को न्याय नही मिल पा रहा है 4 सालो से और यह पॉकसो कानून भी अंग्रेजो के द्वारा बनाया गया है अच्छे निर्दोष लोगों को ओर युवा लोगो को फंसा कर उनकी जिंदगी खराब करने के लिए यह कानून एक तरफा महिलायों के पक्ष में बना हुआ है और इसी गलत कानून के द्वारा गलत महिलाएं पैसे लेकर इस पॉकसो कानून का दुरुपयोग करती है और अच्छे लोगो को ब्लैक मेल करती है यह धंधा मीडिया वालों ने बना रखा है यह लोग अच्छी लड़कियों को गलत बना देते है और उनसे गलत काम करवाते है !*✅

    *☄निर्दोष संत आशारामजी बापूजी को भी इसी गलत कानून पॉकसो में फँसाया गया इस तरह के हज़ारो जूठे पॉकसो केस पकड़े गए है इस पॉकसो कानून का दुरुपयोग करते हुए, फिर भी कानून ओर सरकार इस गलत कानून को खत्म नही कर रहे है और न ही इस गलत कानून को बदल कर सही कर रहे है !*✅

    Reply

  6. बहुत बहुत साधुवाद चक्रपाणि जी महाराज

    Reply

  7. यह सभा होना ही चाहिए थी। जय हो चक्रपाणि जी

    Reply

  8. भ्रष्ट न्यायपालिका,भ्रष्ट तंत्र,भ्रष्ट सरकार,भ्रष्ट मीडिया मिलकर बिना सबूत एक सच्चे लोक संत को दोषी साबित करने मे लगे है #JailedAnInnocent

    Reply

  9. पूज्य संत आसाराम बापूजी को षड्यंत्र तहत फसाया गया है उनको संत ना मानना यह देश व अन्य लोगो के दुर्भाग्य पूर्ण विवेक हीन विचार हैं

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *